"मेरे ख्यालों में"

"मेरे ख्यालों में"

***प्रभाकर***

(मेरे अंकल द्वारा लिखी हुई एक गज़ल)


मेरे ख्यालों को बुलन्द परवाज़ दे
एहतिरामे ज़ुबाँ हो वह अलफाज़ दे

मेरे तसव्वुर में बस उभरे तेरी तसवीर
मेरी ज़ुबाँ पे बस तू अपनी आवाज़ दे

मेरा वजूद तेरे वजूद से है कायम
मुझे अपनी रहमत से तू नवाज़ दे

तेरी जल्व:गरी का रहा मुन्तज़र"प्रभाकर"
मेरी तलाश को अब तू नवाज़ दे

तारीक-ए-जहालत में गुज़रे क्योंकर
मेरे हाथों में अब इल्मे-चिराग दे

जो पेड ना दे साया मुसाफिर को
तू कैसे उसे उम्र दराज़ दे



बुलन्द= ऊँची , परवाज़=उडान

अलफाज़=शब्द , तसव्वुर=ख्याल

जल्व:गरी=दीदार , एहतिराम-इज्जत देना

1 comments:

deepanjali said...

आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा.
ऎसेही लिखेते रहिये.
क्यों न आप अपना ब्लोग ब्लोगअड्डा में शामिल कर के अपने विचार ऒंर लोगों तक पहुंचाते.
जो हमे अच्छा लगे.
वो सबको पता चले.
ऎसा छोटासा प्रयास है.
हमारे इस प्रयास में.
आप भी शामिल हो जाइयॆ.
एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz