बेगम मिल जाती तो


"बेगम मिल जाती तो..."

***राजीव तनेजा***

चार दोस्त ताश खेल रहे थे।
पत्ते देखने के बाद एक बोला"काश!..बेगम मिल जाती तो मज़ा ही आ जाता।"
सभी दोस्त पत्ते टेबल फैंक कर एक साथ चिल्लाए"हमारी वाली ले जाओ"

***राजीव तनेजा***

2 comments:

keerti vaidya said...

ek dum zakasss....

दीपक भारतदीप said...

बहुत बढिया. ऐसी क्षणिकाएँ जारी रखें. मैं आपक यह ब्लोग भी दीपक बापू पर कहीं पर लिंक कर रहा हूँ और अन्य पर भी करता जाऊंगा.
दीपक भारतदीप

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz