"धीर धरो बस धीर धरो"


"धीर धरो बस धीर धरो"

***राजीव तनेजा***

चारों तरफ छाई है मुर्दंनगी
हुए सबके बुरे हाल
कैसे रोकें गिरते सूचकांक को
जीना हुआ मुहाल
कहत राजीव सुनो भई निवेशको
बेच के औने पौने में
न तुम कडवा घूंट भरो
धीर धरो बस धीर धरो

***राजीव तनेजा***


नोट:अविनाश वाचस्पति जी को समर्पित

5 comments:

Keerti Vaidya said...

bhut khoob apne vayang kasa hai..share mkt par..

ajay kumar jha said...

raajeev bhai,
itne hee dino mein main aapkaa fan ho gayaa hoon aur yakeen maaniye iske liye mere paas kuchh wazib kaaran hain . aapka blog bahut khoobsoorat hai bilkul kisi haseenaa ki tarah . hum nihaarte raahenge.

प्रभाकर पाण्डेय said...

वाह, वाह। कमाल की रचना। सटीक।

अविनाश वाचस्पति said...

शेयर के शेर को कर के धाराशायी
निवेशकों का गला सूखा भाई
धेर्य ही है उसकी सही दवाई

पवन चंदन said...

धीर धरो
पीर हरेगी

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz