"निबटने की तुझसे कितनी हम में खाज है"

***राजीव तनेजा***



माना कि...
अपनों के बीच... अपने शहर में
चलती तेरी बड़ी ही धाक है
सही में...
विरोधियों के राज में भी तू. ..
गुंडो का सबसे बडा सरताज है ...
हाँ सच!...
तू तो अपने ठाकरे का ही 'राज' है...
सुना है!...
समूची मुम्बई पे चलता तेरा ही राज है
अरे!...
अपनी गली में तो कुता भी शेर होता है...
आ के देख मैदान ए जंग में...
देखें कौन. ..कहाँ... कैसे ढेर होता है
सुन!...
सही है...सलामत है...चूँकि मुम्बई में है...
आ यहाँ दिल्ली में...
बताएँ तुझे ...
निबटने की तुझसे कितनी हम में खाज है
हाँ! ...
निबटने की तुझसे कितनी हम में खाज है


***राजीव तनेजा***

rajivtaneja2004@gmail.com

http://hansteraho.blogspot.com

 

+919810821361

+919213766753

12 comments:

सुशील कुमार छौक्कर said...

वाह राजीव। बहुत खूब ललकारा है।

Cuckoo said...

अच्छा लिखा है, पसंद आई यह कविता | इसे कहते हैं ललकारना |

सच ही है, अपने गली में सभी कुत्ते शेर होते हैं |

Cuckoo

Cuckoo said...

मैंने इसे ब्लॉग भारती में लिंक किया है |
देखिये यहाँ
http://www.blogbharti.com/cuckoo/india/an-open-challenge-to-raj-thackeray/

Cuckoo

1conoclast said...

Great going man!

But may I recommend an Ahimsa approach to dismantle this man?

EduFact said...

poori up bihar ki gandagi mumbaime nahi failne denge.gaonme salo saal aurat rakhkar mumbaime peda batate ho.ku.kaun bache paida karta hei.ye maharashtra ki dhartipar gandagi nahi ane de.mumbai-maharashtra sant ki bhoomi hai.

Raj said...

Really all marathi has gone mad, if its really true dat they dont want any non marathi to work in mumbai / mahrashtra den if tehy have power first they should target the film industry The BIG B from ALLAHBAD, SRK from New Delhi, AKSHAY from PUNJAB, U all MARATHI if really have gutts den first remove these all non marathi from mumbai den target on small, poor and weak people from North INDIA, its challenge reply u all MARATHI

aniket said...

hai mumbai main rehne vale se humen shikayat nahi humein mumbai main ane voalo se shikayat hai aur han tum agar tum film industry ke baremain bat karte ho toh main yaad dilana chahunga hamare desh ki pradhan mantri bhi marathi hai

Raj said...

no aniket i wnat to say that , y u targeting the poor people of mumbai who r non marathi, start from the stronger people who r non marathi, phir to wahi bat huee APNAE GALII MAE TO KUTTA BHI SERR HOTA HAE

indianhomemaker said...

Bombay bhi Bihar bhi,
Dono Hindustan hain.
Raj Thakre jaanta hai,
Uske voters ko bhi gyaan hai.
Is support ke peeche thoda job ka laalach
Kuch hekdi dikhane ka mauka
Bina mehnat ke kamane ki ummeed
Aur kuch jhootha abhiman hai.
Use Bombay ko Kulkutta banana hai
Woh Dilli naheen aane wala.
Tabhi to achche khase Bombay ko
Kuch karne-dharne ke bajaye, Mumbai bana daala :(

Amit said...

abe logo ye baat dhyaan me rakho
1.aap kahin bhi jao hydrabad m jao aur telugu ke khilaf bolo, bhar me jao aur bihari ke khilaf bologe, yaa fir karnatak me jake kannad ke khilaf bloge to aapka jo hashar hoa ahi aaj ki baat hai marathi mudde me
2.bhartiy niyamak ghatna nusar kisi bhi bhartiy ko kahi bhi rahne ka adhikar hai pa jab tak waha ke local logo ko problem ya fir dikkat na ho tab tak
3.aaj kaljo chal raha hai wo galat hai ar ye jo chhat puja ke naam pe yaa fir up din ke naam pe jo haktipradarshan dikhana chaahte hai kuch kamine log unke khilafho jaao
4.ye jo maharashtra me jitna vikas hua hai usase kai guna jyaada vikas up bihar me ho sata hai agar wahan ki sarkare karodo ka chara khaana chhod e ya fir noto ki mala pahnana chhod de ya fir khud k putle banwana chhod de
kya kahte ho bhai yo????
5.main koi philosofer ya aur koi nahi main hu sirf ek common man

Amit said...

abe logo ye baat dhyaan me rakho
1.aap kahin bhi jao hydrabad m jao aur telugu ke khilaf bolo, bhar me jao aur bihari ke khilaf bologe, yaa fir karnatak me jake kannad ke khilaf bloge to aapka jo hashar hoa ahi aaj ki baat hai marathi mudde me
2.bhartiy niyamak ghatna nusar kisi bhi bhartiy ko kahi bhi rahne ka adhikar hai pa jab tak waha ke local logo ko problem ya fir dikkat na ho tab tak
3.aaj kaljo chal raha hai wo galat hai ar ye jo chhat puja ke naam pe yaa fir up din ke naam pe jo haktipradarshan dikhana chaahte hai kuch kamine log unke khilafho jaao
4.ye jo maharashtra me jitna vikas hua hai usase kai guna jyaada vikas up bihar me ho sata hai agar wahan ki sarkare karodo ka chara khaana chhod e ya fir noto ki mala pahnana chhod de ya fir khud k putle banwana chhod de
kya kahte ho bhai yo????
5.main koi philosofer ya aur koi nahi main hu sirf ek common man

राजीव तनेजा said...

आदरणीय अमित जी..नमस्कार ...
आपका कहना बिलकुल सही है कि यू.पी और बिहार में महाराष्ट्र से ज्यादा विकास हो सकता है अगर वहाँ कि सरकारें करोड़ों का चारा खाना छोड़ दें...नोटों की माला पहनना छोड़ दें या फिर अपने खुद के महंगे-महंगे पुतले बनवाना छोड़ दें|...
ये सब गलत हुआ है...इसे किसी भी कीमत पे सही नहीं ठहराया जा सकता है लेकिन राज ठाकरे ने और उसकी पार्टी के उद्दंड कार्यकर्ताओं ने आम उत्तर भारतीय लोगों के साथ जो बर्ताव किया ..जो मार-पीट की...वो भी तो सही नहीं है....क्या किसी राज्य के लोगों का नाम अपने जन्मदिन के केक पर लिख कर उसे तलवार से काटना जायज़ है?...अगर है तो ये किस बात का संकेत देता है?..
वजह चाहे कोई भी रही हो लेकिन सच्चाई तो यही है ना कि भारत के अन्य विकसित शहरों के मुकाबले बिहार और यू.पी पिछड़े हुए राज्यों की गिनती में आते हैं?...अब चूंकि वहाँ आमदनी का कोई ठोस जरिया नहीं है और आबादी बहुत ज्यादा है इसलिए हर वर्ष वहाँ से लाखो-करोड़ों लोगों का रोज़गार की तलाश में विकसित राज्यों की तरफ पलायन करना बिलकुल जायज़ है |
आज अपनी मेहनत के बल पर ये उत्तर भारतीय लोग हमारे समाज की...हमारे कल-कारखानों की रीढ़ बन चुके हैं...नींव बन चुके हैं | हमें विकसित एवं संपन्न बनाने में इनके योगदान को किसी भी कीमत पर नाकारा नहीं जा सकता | ये अगर एक दिन के लिए भी काम रोक के बैठ जाएँ तो पूरे शहर का जैसे विकास रुक जाता है...उसकी जीवन रेखा को विराम लग जाता है|
लेकिन आपकी ये बात भी सही है कि इनको भी चाहिए कि ये जिस भी राज्य में जाएँ...उसी के बनकर जाएँ...और वहाँ का...वहाँ के नागरिकों का सम्मान करें |
फिलहाल इतना ही...बाकी फिर कभी
विनीत:
राजीव तनेजा

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz