चेहरा छुपा दिया है हमने नकाब में-13

मिल गया...मिल गया...मिल गया...

पहली बार अपनी पहेली का पूर्ण विजेता मुझे मिल गया...जी हाँ!...इस बार पूरे पाँचों ब्लॉगरों को श्री समीर लाल 'उड़न तश्तरी' जी ने पहचाना है ...इसलिए उन्हें पहेली नम्बर 12 का संपूर्ण विजेता घोषित किया जाता है

2797507707_6d5b2dbb37_o

कल की पहेली में शामिल ब्लॉगरों के नाम थे :

1.अजय कुमार झा जी 

IMG0094A1erf3r32rgretg4g4 

2.शेफाली पाण्डेय जी

shefali1234 dfhgge 

3.श्रद्धा जैन जी

shrdha fgrehgre

4.अलबेला खत्री जी

albela khatri tertwet 

5.पवन 'चन्दन' जी

pawanchandan rw3t3f]

अब चलते हैँ आज की पहेली की तरफ ...तो आज आपके सामने पाँच चिर पेश हैँ और आपको पाँच ही ब्लॉगरों को खोज निकालना है ..

2453t3t3  

dhdhe

dveve

egege

chjfnwfw

 

12 comments:

महफूज़ अली said...

Aadarniya Sameerji ko bahut bahut badhai............


---------------------------------

par aaj yeh kya.......... main ek ko bhi nahin pehchaan paa raha hoon...........

khair! phir aata hoon ..... abhi soch ke....

अविनाश वाचस्पति said...

दीपक गुप्‍ता
खुशदीप
और अंतिम
अंकित।

बीच के नहीं बतलाऊंगा
इनमें भी गलत बतलाये हैं

इनाम अभी तक नहीं मिला
इसी का है गिला
सबसे पहले दो पहेलियां जीतीं
पर एक का पुरस्‍कार भी
अभी तक जिनके लिए कहा था
उनके पास नहीं भेजा गया है।

पहेली छोड़ने की बात कर रहे हैं
हमें तो लूट लिया
पहेली बनाने वालों ने, पर
अब लुटने वाले नहीं हैं
अब सारे नहीं बतलायेंगे
पहले बकाया चुकाओ
फिर बतलायेंगे।

अविनाश वाचस्पति said...

समीर लाल जी को
हरी हरी बधाई
बाकी जिन्‍होंने कम कम बतलायें हैं
उन्‍हें नीली पीली बधाई।

संगीता पुरी said...

समीर जी को बधाई .. मैने भी चार तो पहचान ही लिए थे .. श्रद्धा जी को गल्‍ती से विभा रानी लिख दिया .. छोटी सी चूक से मैं तो आज गयी काम से !!

AlbelaKhatri.com said...

badhaai ji badhaai sameerlaalji ko !

waah !

mubaaraq ho.........

lekin bhai , chaar ko toh hamne bhi pahchaana tha hamaare liye koi vyavastha nahin ?

कविता वाचक्नवी Kavita Vachaknavee said...

Sameer ji ko badhayi ki basket.

aaj ek bhi chehra pahchana mein nahin aa raha.

विनोद कुमार पांडेय said...

samir laal ji ko bahut bahut badhayi paheli ke vijeta bane aur wo bhi sabhi chitro ko pahchan kar ..adbhut pahchan....aur aaj bhi mere liye mushkil lag raha hai...

par sabhi chitron ko behtareen dhang se sajaya gaya hai..rajiv ji bahut bahut badhayi..

खुशदीप सहगल said...

राजीव भाई,
सच बताऊं...पूरे दिन की भागदौड़ और देर रात को पोस्ट ब्लॉग पर डालने के बाद दिमाग इस कदर थक जाता है कि उस पर ज़ोर डालने की गुंजाइश ही नहीं रहती...इसलिए दूसरों को जीतते देखकर ही मजा ले लेते हैं...फुल बटा फुल मार्क्स लेने के लिए गुरुदेव को ईनाम में राजीव जी का स्कूटर साफ़ करने वाला कप़़ड़ा...

जय हिंद...

अविनाश वाचस्पति said...

योगेश समदर्शी भी हैं इसमें एक

चित्रकला और कलम जिनकी नेक।

अविनाश वाचस्पति said...

एक हैं अदा
सचमुच की
बाकियों के चेहरे पर
आपने बनाई है अदा।

अविनाश वाचस्पति said...

ब्‍लॉग ऑनर कहां हैं

आज ताऊ पहेली पर

उनका जवाब भी दिखाई नहीं दिया।

अविनाश वाचस्पति said...

संजू जी कहां हैं आजकल

उनका पहचानना वर्जित क्‍यों है ?

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz