"अन्धा बाँटे रेवड़ियाँ"

***राजीव तनेजा***



"क्या हुआ?….आते ही ना राम-राम..ना हैलो-हाय...बस..बैग पटका सीधा सोफे पे और तुरन्त जा गिरे पलंग पे...धम्म से...कम से कम हाथ मुँह तो धो लो".....
"अभी नहीं...थोड़ी देर में"..
"चाय बनाऊँ?"...
"नहीं!...मूड नहीं है".. .
"क्या हुआ तुम्हारे मूड को?...जब से आए हो..कुछ परेशान से...थके-थके से...लग रहे हो"..
"बस ऐसे ही"...
"फिर भी..पता तो चले"... .
"कहा ना...कुछ नहीं हुआ है"...
"ना..मैँ नहीं मान सकती...आप जैसा मस्तमौला इनसान इस तरह गुमसुम हो के चुपचाप बैठ जाए तो..कुछ ना कुछ गड़बड़ तो ज़रूर है...
"क्यों बेफिजूल में बहस किए जा रही हो?...एक बार कह तो दिया कि कुछ नहीं हुआ है"मैँ गुस्से से बोल उठा..
"हुँह!...एक तो तुम्हारी फिक्र करो और ऊपर से तुम्हारा गुस्सा भी सहो....नहीं बताना है तो ना बताओ...तुम्हारी मर्ज़ी"...
"ये तो तुम कुछ परेशान से...बुझे-बुझे से दिखे तो पूछ लिया...वर्ना मुझे कोई शौक नहीं है कि बेफाल्तू के चक्करों में माथापच्ची करती फिरूँ"..
"एक तुम हो जो सारी बातें गोल कर जाते हो और एक अपने पड़ोसी शर्मा जी हैँ कि आते ही...पानी बाद में पीते हैँ...अपनी राम कहानी पहले बतियाते हैँ"...

"तुम्हें?"..
"मुझे भला क्यों बताने लगे?...अपनी घरवाली को बताते हैँ"...
"ओह!...फिर ठीक है"मेरे चेहरे पे इत्मिनान था
"कल ही तो देखा था उसे पड़ोस वाले कैमिस्ट की दुकान से दवाई लेते हुए"...

"तो?"...
"पेट कमज़ोर है स्साले का...दस्त लगे रहते हैँ हमेशा...तभी तो कोई बात पचा नहीं सकता"... 
"और तुम?..तुम तो सारी की सारी बात ही गोल कर जाते हो...कुछ बताते ही नहीं"..
"सुनो"मैं उसे अनसुना कर अपनी ही धुन में बोला... 
"क्या?"... 
"ज़रा कम्प्यूटर ऑन कर के नैट तो चलाना"... 
"उफ...तौबा!...आप और...आप का कम्प्यूटर….शाम होते ही इंतज़ार रहता है कि कब जनाब आएँ और कब कड़क चाय की प्याली के साथ दो-चार प्यार भरी बातें हों"...
"कुछ मैँ इधर की कहूँ..कुछ आप उधर का हाल सुनाओ लेकिन आप हैँ कि..आते ही कम्प्यूटर ऑन करने को कह रहे हैँ....कम्प्यूटर ना हुआ..मेरी सौत हो गया"... 

"इस मुय्ये कम्प्यूटर से तो अच्छा था कि तुम मेरी सौत ही ला के घर पे बिठा देते तो बढिया रहता"... 
"वो कैसे?"... 
"कम से कम लड़-झगड़ के ही सही...टाईम तो पास हो जाया करता मेरा"... 
"ओह!....
"यहाँ तो बस चुपचाप टुकुर-टुकुर ताकते रहो जनाब को कम्प्यूटर पे उँगलियाँ टकटकाते हुए...और तो जैसे कोई काम ही नहीं है मुझे".. 
"अरे यार!..राखी सावंत का नया आईटम नम्बर आया है ना"... 
"कौन सा?"... 
"जो सबको क्रेज़ी किए जा रहा है"... 
"तो?":... 
"उसी का विडियो डाउनलोड करना है"... 
"किसलिए?"... 
"रिंकू ने मंगवाया है".. 
"सब पता है मुझे कि रिंकू ने मंगवाया है या फिर पिंकू ने मंगवाया है"... 
"अरे यार!...तुम तो खामख्वाह शक करती हो...सच में..उसी ने मंगवाया है"... 
"कम से कम झूठ तो ऐसा बोलो कि पकड़ में ना आए..क्यों अपने कमियों को छुपाने के लिए दूसरे का नाम ले ...उसे बदनाम करते हो?"... 
"क्या मतलब?"...
"कई बार तो देख चुकी हूँ कि खुद तुम्हारा मोबाईल उस कलमुँही की अधनंगी तस्वीरों और विडियोज़ से भरा पड़ा है "..
"पता नहीं ऐसा क्या धरा है इस मुय्यी राखी की बच्ची में कि बच्चे...बूढे सब उसी पे लट्टू हुए जा रहे हैँ?....मेरा बस चले तो अभी के अभी कच्चा चबा जाऊँ"... 

"अरे!..तुम्हें क्या पता कि क्या गज़ब की आईटम है ...आईटम क्या पूरी बम्ब है बम्ब".... 
"उसका फिगर...उसकी सैक्स अपील...वल्लाह...क्या कहने?"मैँ मन ही मन बुदबुदाया.. 
"अरे!..सब का सब नकली माल है...उसका असली ...बिना मेकअप पुता चौखटा देख लो तो कभी फटकोगे भी नहीं उसके पास"बीवी ने मानो मेरे मन की बात भांप ली थी.... 
मैं कुछ कहने ही वाला था कि ट्रिंग..ट्रिंग...की सुरीली ताने के साथ फोन घनघना उठा ..... 
"सुनो!...अगर कोई मेरे बारे में पूछे तो कह देना कि अभी आए नहीं हैँ"... 
"क्यों?...क्या हुआ?...बात क्यों नहीं करना चाहते?".. 
"कहा ना"... 
"क्या?".. 
"यही कि...कोई मेरे बारे में पूछे तो साफ मना कर देना"... 
"हुँह!....खुद तो पहले से ही सौ झूठ बोलते हैँ और अब मुझसे भी बुलवा रहे हैँ".. 
"समझा कर यार"मैँ रिकवैस्ट भरी नज़रों से देखता हुआ बोला.... 
"क्या समझूँ?"... 
"प्लीज़".. 
"ठीक है!...इस बार तो बोले देती हूँ लेकिन अगली बार नहीं "... 
"ठीक है...अभी की मुसीबत तो निबटाओ...बाद की बाद में देखेंगे"... 
"हैलो..".. 
"नमस्ते.."... 
"जी..".. 
"जी.."... 
"अभी तो आए नहीं हैँ...हाँ!..आते ही मैसैज दे दूंगी 
"ओ.के....बाय...ब्ब बॉय"... 
"कौन था?"... 
"वही..तुम्हारी माशूका...'कम्मो'....और कौन?"... 
"तो फिर दिया क्यों नहीं फोन?"... 
"तुमने खुद ही तो मना किया था"... 
"इसके लिए थोड़े ही किया था"... 
"और किसके लिए किया था?"... 
"व्वो...वो तो ...दरअसल ..... 
"याद करो...तुमने ही कहा था कि जो कोई भी हो...साफ मना कर देना"... 
"तुमसे तो बहस करना ही बेकार है..अपने आप दिमाग नहीं लगा सकती थी क्या?".. 
"गल्तियाँ तुम करो और उन्हें भुगताऊँ मैँ?"... 
"ओ.के बाबा!...मेरी ही गलती है...तुम्हें साफ़-साफ़ नहीं बताया ....तुम सही...मैँ गलत".... 
"अब ठीक?"... 
"हम्म!...... 
"और तुम्हें पिछली बार भी समझाया था कि 'कम्मो' मेरी माशूका नहीं....बल्कि बहन है"... 
"सब पता है मुझे कि कौन?..किसकी?...कैसी बहन है?...और...कौन?...किसका?...कैसा भाई है?"... 
"क्या मतलब?...मतलब क्या है तुम्हारा?"मैँ आगबबूला हो उठा... 
"सब जानते हो तुम कि मेरे कहने का क्या मतलब है".. 
"ट्रिंग..ट्रिंग... ट्रिंग..ट्रिंग" तभी ट्रिंग..ट्रिंग करता फोन फिर से चिंघाड़ उठा 
"जो कोई भी मेरे बारे में पूछे ...साफ इनकार कर देना"... 
"नहीं...बिलकुल नहीं".. 
"पक्का..इस बार उसी का होगा"मैँ बड़बड़ाता हुआ बोला... 
"किसका?"... 
"प्लीज़...मुझे फोन मत देना".. 
"तुम्हें मेरी कसम"... 
"हुँह..."इतना कह बीवी फोन की तरफ बढ गई... 
"हैलो"... 
"कौन?".... 
"ओह!...नॉट अगेन"कहते हुए बीवी ने फोन क्रैडिल पर रख दिया... 
"किसका फोन था?"... 
"पता नहीं...ऐसे ही कोई पागल है...बार-बार फोन कर के तंग करता है"... 
"कहता क्या है?"... 
"कुछ नहीं"... 
"मतलब?"... 
"बस ऐसे ही ...ऊटपटांग बकता रहता है "... 
"क्या?"... 
"कुछ भी उल्टा-पुल्टा"... 
"ज़रूर तुम्हारा कोई आशिक होगा"... 
"मेरा?"... 
"और नहीं तो मेरा?".. 
"रहने दो...रहने दो...ये वेल्ला शौक मैँने नहीं पाला हुआ है"... 
"तुमने नहीं पाला तो क्या?...उसने तो पाला हुआ है ना जो तुम्हें बारंबार फोन करता है"... 
"मुझे क्या पता?...कहीं से नम्बर मिल गया होगा"... 
"पता नहीं लोगों  को क्या मिल जाता है ऐसे ही बेकार में फ़ालतू का वक्त बर्बाद कर के"...
"अच्छा...अब ये बताओ कि तुम फोन उठाने से कतरा क्यों रहे थे?"... 
"बस ऐसे ही"... 
"फिर भी ..पता तो चले"... 
"अरे!...वो स्साला...'घंटेश्वरनाथ बल्लमधारी' नाक में दम किए बैठा है".. 
"ओह!..तो उसी के डर से फोन स्विच ऑफ किए बैठे हैँ जनाब?"बीवी पलंग से फोन उठा मुझे दिखाती हुई बोली.... 
"यही समझ लो"... 
"तुम तो ऐसे ही बेकार में हर किसी ऐरे-गैरे...नत्थू खैरे से डरते रहते हो"... 
"अरे!..वो कोई ऐरा-गैरा नहीं है बल्कि एक माना हुआ नामी-गिरामी साहित्यकार है"... 
"तो तुम क्या चिड़ीमार हो?...तुम भी तो एक उभरते हुए व्यंग्यकार ही हो ना?"... 
"अरे!...वो पुराना चावल अंदर तक घिस-घिस के संवर चुका है इस साहित्य की लाईन में और मैँ अभी नया खिलाड़ी हूँ"... 
"लेकिन अब तो तुम्हारा भी थोड़ा-बहुत नाम हो चला है"...
"हाँ!...हो तो चला है"...
"सो!..कमी किस बात की है?"...
"माना कि नाम हो चुका है लेकिन सिर्फ ब्लागजगत की दुनिया में"... 
"तो क्या हुआ?...क्या कमी है तुम्हारी आभासी दुनिया में?...इस ब्लॉगिंग की वजह से ही तुमने लिखना शुरू किया और इसी वजह से तुम में हौंसला आया कि अपने लिखे को अखबारों वगैरा में भेज के देखा जाए"
"हम्म....

"नतीजा तुमहरे सामने है...तुमने आठ रचनाएँ भेजी नवभारत टाईम्स वालों को और उन्होंने बिना किसी कट के आठों की आठों ही अप्रूव कर छाप दी"..
"हम्म... 
"अब तो खुद मेल भेज-भेज के दूसरी साईट वाले भी इंवाईट करते हैँ तुम्हें लिखने के लिए".. 
"बात तो तुम्हारी ठीक है लेकिन नैट पे लिखना और बात है और किताबों और अखबारों में छपना-छपाना और बात है"... 
"लेकिन मैँने तो सुना है कि ब्लॉगिग भी साहित्य की ही एक नई विधा है और उससे कहीं बेहतर है"... 
"बात तो तुम्हारी सोलह ऑने सही है...यहाँ राईटर से लेकर पब्लिशर तक...हम अपनी मर्ज़ी के मालिक खुद जो होते हैँ".. 
"हम्म!...
"यहाँ हम किसी सम्पादक या पब्लिशर की दया के मोहताज नहीं होते क्योंकि यहाँ कोई हमारी रचनाओं को खेद सहित नहीं लौटाता है"...
"और एक खूबी ये भी तो है कि हमें अपने लिखे पर कमेंट भी तुरंत ही मिलने शुरू हो जाते हैँ".. 
"बिलकुल!...यहाँ लिखते के साथ ही पता चलना शुरू हो जाता है कि हमने सही लिखा या फिर गलत".. 
"इन्हीं सब खूबियों की वजह से ब्लॉगिंग साहित्य से बेहतर है ना?"... 
"लेकिन कईयों के हिसाब ये ये खूबियाँ नहीं बल्कि कमियाँ हैँ".... 
"ये सब उन्हीं नामचीनों के द्वारा फैलाया गया प्रापोगैंडा होगा जिन्हें तुम ब्लॉगरो के चलते अपनी कुर्सी खतरे में नज़र आ रही होगी"...
"मैँने अभी हाल ही में कहीं पढा था कि 'बी.बी.सी' के किसी बड़े अफसर ने कहा है कि...
"हमें टीवी...अखबार...मैग्ज़ीनज़ के अलावा हर उस व्यक्ति से खतरा है जिसके पास एक अदद कम्प्यूटर और नैट का कनैक्शन है".. 

"बिलकुल सही कहा है...तुम्हें पता है कि कई बार मीडिया की सुर्खियों में आने से भी बहुत पहले कुछ खबरें ब्लॉगजगत में धूम मचा रही होती है".. 
"जैसे?"..
"ये 'मोनिका लैवैंसकी' और 'बिल क्लिंटन' वाला काण्ड भी सबसे पहले नैट पे ही उजागर हुआ था"...
"अच्छा?"..
"और ये समाजवादी पार्टी से अमर सिंह के इस्तीफ़े की खबर भी मीडिया वालों को सबसे पहले उनके ब्लॉग से ही मिली थी"...

"ओह!...क्या ये सही है कि आजकल चीन के दमन के चलते तिब्बत से आने वाली लगभग हर खबर का जरिया ब्लाग और इंटरनैट ही है?"...
"बिलकुल!... बाहरले मीडिया को जो खबरों के कवरेज की इज़ाज़त नहीं है"...
"और वहाँ का लोकल मीडिया तो सारी खबरें सैंसर होने के बाद ही दे रहा होगा?".. 
"यकीनन"... 
"आज हर बड़ी से बड़ी हस्ती का अपना ब्लॉग है..चाहे वो 'आमिर खान' हो या फिर 'अमिताभ बच्चन और उनकी भी यहाँ वही अहमियत है जो मेरी है या फिर किसी भी अन्य ब्लॉगर की".. 
"ओह!..
"सीधी बात है कि जिसकी लेखनी में दम होगा...जिसका लिखा रुचिकर होगा उसी के पास रीडर खिंचे चले आएँगे".. 
"आमिर खान का तो मैँने सुना था लेकिन ये 'बच्चन साहब' को ब्लॉग बनाने की क्या सूझी?"...
"अरे यार!..मीडिया में बहुत कुछ अंट-संट बका जा रहा था ना उनके खिलाफ".. 
"तो?"...
"उसी चक्कर में अपना पक्ष रखने के लिए कोई ना कोई माध्यम तो चुनना ही था उन्हें...तो ऐसे में ब्ळॉग से बेहतर और भला क्या होता?"... 
"हम्म!.. 
"पता है...उनकी एक-एक पोस्ट के लिए पाँच-पाँच सौ से भी ज़्यादा टिप्पणियाँ आ रही हैँ?"... 
"अरे वाह!...तो इसका मतलब कि यहाँ भी आते ही धूम मचा दी उन्होने".. 
"बिलकुल!..लेकिन एक कमी खल रही है उनके ब्ळॉग में मुझे"... 
"क्या?"... 
"हिन्दी भाषी होने के बावजूद....हिन्दी फिल्मों की बदौलत नाम..काम...शोहरत और पैसा पाने के बावजूद...उन्होंने अपना ब्लॉग अंग्रेज़ी में बनाया"...
"ओह!... ये 'बिग बी' का खिताब भी तो उन्हें हिन्दी फिल्मों की बदौलत ही मिला है ना?"...
"हाँ"...
"अंग्रेज़ी में ब्लॉग बनाने के पीछे...ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक अपनी बात पहुँचाने की मंशा रही होगी उनकी"...

"लगता तो यही है"...
"वैसे अभी तुम्हारे हिन्दी के ब्लॉग हैँ ही कितने?".. 
"आठ"...
"बस!...आठ?"...
"और नहीं तो क्या साठ?"...
"क्या मतलब?...सिर्फ आठ ब्लाग ही बने हैं हिन्दी के अभी तक?"...
"हाँ!..आठ तो मेरे अपने...खुद के हैं"...
"ओह!...लेकिन मैं सभी के मिला के पूछ रही थी कि कुल कितने ब्लॉग होंगे हिन्दी के?"...
"सभी के मिला के तो लगभग 15000 के आस-पास होंगे"...
"इन पंद्रह हज़ार में से रोज़ाना कितने सक्रिय होते होंगे?"....
"मुश्किल से एक या दो फीसदी"...
"तो तुम ये डेढ़-दो सौ ब्लागरों के दम पे हिन्दी का उद्धार करने चले हो?"..
"तो क्या हुआ?..बूँद-बूँद से घड़ा भरता है ...आज डेढ़-दो सौ ब्लागर सक्रिय हैं तो कल को डेढ़-दो हज़ार तो और आने वाले समय में डेढ़-दो करोड़ भी होंगे"...
"हमारा भविष्य उज्जवल है...बहुत उज्जवल"..
"बड़े लोगों के इस ब्लॉगिरी की लाईन में कूदने से एक फायदा तो हुआ है"... 
"क्या?"...
"यही कि कुछ साल पहले जिन सैलीब्रिटीज़ से रूबरू मिलने...उनसे बात करने की हम कभी सपने में भी सोच भी नहीं सकते थे..आज हम उनके ब्ळॉग पे कमैंट कर डाईरैक्ट अपने दिल की बात कह सकते हैँ".. 

"हाँ!..ये बात तो है".. 
"खैर!...उनकी छोड़ो...वो सब तो पहले से ही जाने-माने लोग हैँ...उनसे क्या मुकाबला?...तुम इस 'घंटेश्वरनाथ' की बात करो...ये तो आम आदमी ही है ना?".. 
"अरे!...इसका भी बड़ा नाम है आजकल...चाहे कोई 'कवि सम्मेलन' हो या फिर कोई 'मुशायरा'...या फिर हो किसी नए पुराने लिक्खाड़ की किताब का विमोचन..हर जगह उसी को पूछा जाता है...उसी को बारंबार मान-सम्मान दे पूजा जाता है"...
"अरे!..मान-सम्मान दिया नहीं जाता बल्कि वो खुद ही सब कुछ अपने फेवर में मैनुप्लेट करके अपना जुगाड़ बना लेता है".. 

"रोज़ाना अखबारों...पत्रिकाओं...मैग्ज़ीनों ...पर्चों वगैरा में उसका कोई ना कोई लेख छपता रहता है"... 
"तो क्या?...उन्हीं में यदा-कदा तुम्हारी कहानियाँ भी तो छपती ही हैँ ना?"...
"अरे!..उसे तो लिखने के पैसे मिलते हैँ और मेरा माल मुफ्त में ही हड़प लिया जाता है"... 
"अफसोस तो इसी बात का है कि..जहाँ एक तरफ उसे मंच पे खाली बैठे-बैठे पान चबा...जुगाली करने के नाम पे बड़ा लिफाफा थमा दिया जाता है...वहीं दूसरी तरफ तुमसे फोकट में कविता पाठ से लेकर मंच संचालन तक करा लिया जाता है".. 
"मैँ तो यही सोच के खुद को तसल्ली का झुनझुन्ना थमा देता हूँ कि चलो कम से कम इसी बहाने मेरे काम की चर्चा तो होती है"... 
"लेकिन ऐसी फोकट की चर्चा से फायदा क्या कि चाय भी अपने पल्ले से पीनी और पिलानी पड़े?"... 
"ऊपरवाले के घर देर है पर अंधेर नहीं...कभी तो नोटिस में लिया जाएगा मेरा काम"मेरा हताश स्वर... 
"मुझे तो लगता है कि शर्म के मारे तुम खुद ही कुछ नहीं मांगते होगे"... 
"बात तो यार...तुम्हारी कुछ-कुछ सही ही है".. 
"अरे!...बिना रोए कभी माँ ने भी बच्चे को दूध पिलाया है?...जो लोग खुद ही तुम्हें पैसे देने लगे?...हक बनता है तुम्हारा...बेधड़क हो के माँग लिया करो"... 
"हम्म!..
"काम कर के देते हो...कोई मुफ्त में ख़ैरात नहीं माँगते...इसमें शर्म काहे की?"... 
"यार!...कभी-कभार हिम्मत कर के पैसे मांगने की जुर्रत कर भी लो तो 'घंटेश्वरनाथ' का यही टका सा जवाब मिलता है कि...
"शुक्र करो!...हमारी बदौलत मीडिया की सुर्खियों में तो छाए हुए हो कम से कम...वरना कोई पूछता भी नहीं तुम्हें".. 
"अब अगर कहीं कोई प्रोग्राम हो तो मुझे ज़रूर ले चलना".. 
"तुम क्या करोगी?"...
"उसी से पूछूँगी कि ऐसी फोक्की सुर्खियों को क्या नमक बुरका के चाटें हम?"...
"छोड़ो ना...कभी तो अपने दिन भी फिरेंगे"...
"हुंह!...कभी तो दिन फिरेंगे"..बीवी मुँह बनाती हुई बोली
"बस!...इस बात की तसल्ली है मुझे कि इसी बहाने से ही सही...मेरी अपनी...खुद की फैन फालोइंग तो बन गई है"... 
"और नहीं तो क्या?...उसके जैसे चमचों के बल पे इकट्ठा की हुई भीड़ के दम पे नहीं कूदते हो तुम"... 
"हाँ!..ये बात तो सच है"...
"बस!..अब से तुम्हें कोई ज़रूरत नहीं है उससे डरने-वरने की"... 
"हम्म!...
"ज़्यादा चूँ-चाँ करे तो उसी के खिलाफ खुल्लमखुल्ला मोर्चा खोल देना"....
"अरे यार!...कैसे विरोध करूँ उसका?..गुरू है वो मेरा"...
"गुरू गया तेल लेने...ऐसी कोई अनोखी दीक्षा नहीं दी है उसने तुम्हें जो तुम पूरी ज़िन्दगी गुरूदक्षिणा ही देते रहो"... 
"तुम में जन्मजात गुण था लिखने का...माँ जी बता रहती थी कि बचपन से ही पन्ने काले करते रहते थे"... 
"वो सब बात तो ठीक है लेकिन मंच पे कविता पढ़ने का पहला चाँस तो उसी की बदोलत ही मिला था ना?".. 
"हुँह!...चाँस मिला था... अपनी ही गर्ज़ को तुम्हें बुलवा लिया था..ऐन टाईम पे उसका विश्वसनीय प्यादा जो बिमार पड़ गया था".. 
"सो!...महफिल में रंग जमाने...तुम्हें स्टैपनी बना...तुम्हारा सहारा लिया था उसने".. 
"हाँ!...ये बात तो है...मजबूरी थी उसकी....आयोजकों से मोटी रकम जो एडवांस में पकड़ चुका था"...  
"तुम जैसे नए रंग-रूटों को मोहरा बना अपना उल्लू सीधा करता है वो".. 
"हम्म!...
"कोई ज़रूरत नहीं है फालतू में उसके चक्करों में पड़ने की...अपना मस्त हो के काम करो...एक न एक दिन तुम्हें अपनी करनी का फल ज़रूर मिलेगा"... 
"करनी का फल मिलेगा?...मैं कुछ गलत कर रहा हूँ क्या?"...
"नहीं!..मेरा मतलब था कि तुम्हें अपने द्वारा किए गए काम का प्रतिफल ज़रूर मिलेगा"...
"ओह!..मैं तो डर ही गया था"...
"कई बार तो इतना गुस्सा आता है उस पर कि मार के घूँसा उसके सभी के सभी दाँत तोड़ दूँ"...
"नहीं!...ऐसा गजब बिल्कुल नहीं करना"...
"क्यों?...क्या हुआ?"...
"बिना दाँतो के वो तो एकदम विलायती बंदर जैसा दिखेगा"...
"तो?...तुम्हें इसमें क्या एतराज़ है?"...
"नहीं!..मैं नहीं चाहती कि हमारे किसी भी कृत्य से उसकी मशहूरी हो...प्रसिद्धि हो"..
"ओह!..तुम कहती हो तो मैं अपना आइडिया ड्रॉप कर देता हूँ...मुल्तवी कर देता हूँ"...
"ओ.के!...लेकिन उसके प्रति तुम्हारे दिल में जो नफरत का सैलाब उमड़ रहा है उसे शांत नहीं होने देना है"...
"लेकिन यार!...कुछ भी कहो..है तो वो आखिर मेरा गुरु ही ना?"..
"हुंह!...बड़े देखे हैँ ऐसे गुरू-शूरू मैँने".. 
"सच कह रही हो तुम...कई बार तो मैं खुद यही सोच-सोच के परेशान हो उठता हूँ कि आखिर कब तक उसके गुरुत्व की कीमत चुकाता रहूँगा?"... 
"आपको तो नाहक ही परेशान होने की आदत पड़ी हुई है...खा थोड़े ही जाएगा हमें?"... 
"हाँ!..ये बात तो है"...
"तुम एक काम करो"... 
"क्या?"... 
"ऐसा सबक सिखाओ पट्ठे को कि छटी का दूध याद करते करते उसे नानी भी याद होने को आए"..  
"लेकिन कैसे?"...
"ये सब भी मैं ही बताऊँगी तो तुम क्या घास छीलोगे?"..
"?...?...?...?..."...
"अरे!..लेखक हो तुम घसियारे नहीं...कलम की ताकत को पहचानो...उसी से वार करो"... 
"अरे!...तुम जानती नहीं हो उसे....बड़ा ही पहुँचा हुआ खुर्राट है वो...एक बार में ही समझ जाएगा कि सब कुछ उसी के बारे में लिखा है मैँने".. 
"तो क्या हुआ?...समझ जाएगा तो समझ जाएगा...कौन सा हम उसके हाथ के गुँथे आटे की रोटियाँ पाड़ रहे हैँ?...और वैसे भी हम कोई नाम थोड़े ही उसका लिखेंगे"... 
"हाँ!..ऐसे तो चाहते हुए भी वो हमारा कुछ नहीं उखाड़ पाएगा"मैं खुश होता हुआ बोला.. 
"बिलकुल!..खूब नमक मिर्च लगा के...ऐसा तीखा मसालेदार लिखना कि बस अंदर तक तड़प के रह जाए"... 
"हम्म!...
"ऐसी-ऐसी बातें लिखना कि बिना खुल्लमखुल्ला खुलासा किए ही सब समझ जाएँ कि किसकी बात हो रही है"... 
"लेकिन क्या ऐसा करना ठीक रहेगा?"... 
"क्यों?...वो क्या हमारे साथ सब कुछ ठीक ही करता आया है अब तक?...पिछले तीन साल से हर सम्मेलन...हर मुशायरे...में तुम उसी की तो बँधुआगिरी कर रहे हो"... 
"हाँ!..बात तो तुम्हारी सही है...देना-दिलाना कुछ होता नहीं है और जहाँ मन होता है...वहीं फटाक से फोन करके बुलवा लेता है कि...फलानी-फलानी जगह पे फलाने-फलाने टाईम पे पहुँच जाना"..
"हुँह!...तुम्हारे बाप के नौकर हैं जैसे?"...
"ये नहीं कि किराए-भाड़े के नाम पे ही कुछ थमा दे... टाईम का टाईम खोटी करो और ऑटो खर्चा भी पल्ले से भरो"... 
"लेकिन मैँ तो बस से... 
"अरे!...ओ राजा हरीशचन्द्र की औलाद...हर जगह क्या अपनी गुरबत का ढिंढोरा ही पीट डालोगे?....पर्सनली जानता ही कौन है तुम्हें इस किस्से-कहानियों की दुनिया में?...थोड़ी-बहुत गप भी तो मार सकते हो"... 
"कैसे?"...
"ये भी मैं ही बताऊँ?... तुम्हें तो लिखना चाहिए कि मैँ हमेशा 'ए.सी' कार में सफर करता हूँ...फाईव स्टार सैलून से बाल कटाता हूँ...नोकिया 'एन' सिरीज़ का मोबाईल इस्तेमाल करत हूँ वगैरा ...वगैरा  और तुम हो कि अपनी सब पोल -पट्टी ही खोले दे रहे हो"...
"ओह!..आई एम सारी ...वैरी सारी.....माय मिस्टेक".. 
"और हाँ!...एक बात का हर हालत में ध्यान रखना है कि....कहानी के शुरू में और आखिर में मोटे-मोटे शब्दों में ये लिखना बिलकुल नहीं भूलना कि ये कहानी पूर्ण रूप से काल्पनिक है...इसका किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से कोई भी...किसी भी तरह का संबध नहीं है".. 
"बाद में सौ लफड़े खड़े हो सकते हैँ...इसलिए समय रहते ही चेत जाओ ज़्यादा अच्छा है".. 
"तुम्हारा कहना सही है लेकिन समझ नहीं आ रहा कि कहानी कहाँ से शुरू करूँ?"... 
"वहीं से...जहाँ से उसने शुरूआत की थी"... 
"मतलब...जब उसने शादी की....तब से?"...
"नहीं!...उससे भी पहले से...जब वो हमेशा उस ऐंटीक माडल की टूटी साईकिल पे नज़र आया करता था".... 
"वही?..जो कई बार बीच रास्ते ही जवाब दे पंचर हो जाया करती थी?"... 
"कई बार क्या?...हमेशा ही तो उसी को घसीटता नज़र आता था बल्कि यूँ कहो तो ज़्यादा अच्छा रहेगा कि वो साईकिल पे कम और साईकिल उस पे ज़्यादा लदी नज़र आती थी" 
"बिलकुल सही कहा... ये प्वाईंट तो नोट कर लिया...अब आगे?"मैँ नोटबुक में कलम घिसता हुआ बोला... 
"वो सब बातें लिखना कि कैसे वो उल्टे सीधे दाव पेंच चलता हुआ...एक मामुली कवि से आज साहित्य जगत की मानी हुई हस्ती बन बैठा है"...
"हम्म!...
"कैसे उसकी हाजरी के बिना हर महफिल सूनी-सूनी सी लगती है".. 
"लेकिन कहीं ये उसकी तारीफ तो नहीं हो जाएगी ना?"...
"यही तो इश्टाईल होना चाहिए बिड्ड़ु"...
"क्या मतलब?"..
"मज़ा तो तब है जब तुम्हारे एक वाक्य के दो-दो मतलब निकलें"...
"कैसे?"...
"तुम्हारी लेखनी से एक तरफ लोगों को लगना चाहिए कि तुम तारीफ कर रहे हो और...वहीं दूसरी तरफ दूसरों को साफ़-साफ़ दिखाई देना चाहिए कि तुम तबीयत से दिल खोल के जूतमपैजार कर रहे हो"... 
"लेकिन क्या ऐसे किसी इनसान की इस तरह सरेआम पोल खोलना ठीक रहेगा?"... 
"इनसान?"...
"अरे!...अगर सही मायने में इनसान होता तो आज अपने घर में रह रहा होता ना कि घर जमाई बन के अपने ससुर के बँगले पे कब्ज़ा जमा उन्हीं की रोटियाँ तोड़ रहा होता"...
"हम्म!...
"सब जानती हूँ मैँ कि कैसे उसने उस मशहूर कवि की बेटी को अपने प्यार के जाल में फँसा शादी का चक्कर चलाया"... 

"हम्म!...शादी के पहले था ही क्या उस टटपूंजिए के पास? और अब ठाठ देखो पट्ठे के"..  
"पहले तो ले दे के वही एक ही...महीनों तक ना धुलने की वजह से सफेद से पीला पड़ा हुआ कुर्ता पायजामा नज़र आता था उसके तन पे...और अब?...अब एक से एक फ्लोरोसैंट कलर के कुर्ते पायजामे जैकेट के साथ उसके बदन की शोभा बढा रहे होते हैँ"...
"मैंने तो यहाँ तक सुना है कि पूरे तीस सैट बिना नाड़े के पायजामे सिलवा रखे हैँ पट्ठे ने".. 
"बिना नाड़े के?"...
"हाँ!..बिना नाड़े के"...
"लेकिन वो भला किसलिए?"...
"किसलिए क्या?..अपने कैरियर के शुरुआती दिनों में हूटिंग के डर से पायजामा ढीला हो जाया करता होगा पट्ठे का..
"ओह!...तो इसका मतलब उसी के डर के मारे उसने पायजामे में नाड़े के बजाए इलास्टिक का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया?"
"और नहीं तो क्या?"...
"खैर!..हमें क्या?...नाड़े वाले सिलवाए या बिना नाड़े वाले"... 
"साफ कपड़े पहनने से कोई सचमुच में अन्दर से साफ नहीं हो जाता ...रहेगा तो वो हमेशा ओछा का ओछा ही"... 
"हम्म!...ये सब आईडियाज़ तो नोट कर लिए मैँने...अब?"...
"ये भी लिखना नहीं भूलना कि कैसे वो अपने ब्लॉग के रीडरस और की संख्या बढाने के लिए...
अपनी रचनाओं में सरासर सैक्स परोस रहा है".. 

"मेरे ख्याल से ये लिखना ठीक नहीं रहेगा".. 
"क्यों?".. 
"क्योंकि...कहानी पे पकड़ बनाए रखने के लिए और ..मनोरंजन के लिहाज से कई बार ऐसा करना ज़रूरी भी होता है..मैँ खुद ऐसा कई बार कर चुका हूँ".. 
"तुम तो ज़रा सा..हिंट भर ही देते हो ना?...वो तो बिलकुल ही खुल्लमखुल्ला सब कुछ कह डालने से भी नहीं चूकता"... 
"पर...?...?...?.."मेरे स्वर में असमंजस था...
"एक बात गांठ बाँध लो कि हमेशा दूसरों पे कीचड उछालना ज़्यादा आसान रहता है"... 
"हाँ!...ये बात तो है"...
"सो!..तुम भी बेधड़क हो के उछालो".. 
"किसी ने टोक दिया तो?"... 
"मुँह ना नोच लूँगी उसका?...एक मिनट...एक मिनट में सबक ना सिखा दिया तो मेरा भी नाम संजू नहीं"... 
"देखती हूँ कि कौन रोकता है तुम्हें?"बीवी अपनी साड़ी संभाल ब्लाउज़ की आस्तीन ऊपर करती हुई बोली.....
"बस बस!...ये दम खम बचा के रखो...रात को काम आएगा"मैँ शरारती हँसता हुआ बोला 

"हुँह!..तुम्हारे दिमाग में तो बस हर वक्त उल्टा-पुल्टा ही चलता रहता है"... 
"मैँने तो यहाँ तक सुना है कि आजकल वो नए-नए तौर तरीके अपना रहा है अपने विरोधियों पछाड़ने के लिए"... 
"कौन से तौर तरीके?".. 
"सभागारों में ...थिएटरों में...मीटिंगो में ...सम्मेलनों में...मंचों पर...बैठकों में...यूँ समझ लो कि हर जगह उस जगह जहाँ दो चार जानने वाले मिल जाते हैँ बस अपने विरोधियों को गालियाँ देना शुरू हो जाता है"...
"हाँ!...अगर तुम्हें शिकवे हैँ...शिकायतें हैँ तो...प्यार से...दुलार से उनका हल ढूँढो ना..ऐसे भी कहीं होहल्ले के बीच किसी के 'मोहल्ले' पर निकाली जाती है 'भड़ास'?...पता नहीं कब अकल आएगी?"...

"छोड़ो!...हमें क्या?...अच्छा है...लड़ते-भिड़ते रहें...तुम बस अपना ध्यान में मग्न हो लिखते जाओ"... 
"हम्म!..
"वैसे उसका नाम ये 'घंटेश्वरनाथ बल्लमधारी' कैसे पड़ा?....बड़ा दिलचस्प और खानदानी नाम है ना?"... 
"खानदानी?...अरे!...उस लावारिस को खुद नहीं पता कि वो किस खानदान का है?".. 
"क्या मतलब?"...
"यूँ समझ लो कि उसकी कहानी पूरी फिल्मी है...एकदम फिल्मी"...
"कैसे?"...
"दरअसल!...हुआ क्या कि एक पुरोहित को ये मन्दिर की सीढियों पर रोता बिलखता मिल गया था"...
"ओह!...
"कोई उसे लावारिस हालत में छोड़ गया था वहाँ"..
"ओह!...
"पुजारी बेचारा...ठहरा सीधा सरल आदमी...तरस आ गया उसे और अपने पास रख लिया इसे"... 
"हम्म!...
"अब ये रोज़ सुबह मन्दिर को झाड़ू-पोंछा लगा साफ सुथरा रखता और बदले में मन्दिर के चढावे में चढने वाले फल-फूल खा के अपना पेट भर लेता"..
"ओह!..और जो नकदी वगैरा चढती थी चढावे में...उसका क्या होता था?"..
"उसे?...उसे तो पुरोहित अपने पास रख लेता था...किसी को नहीं देता था...पक्का कंजूस मक्खीचूस था".. 
"आगे?"...
"कुछ बड़ा हुआ तो शाम को आरती के वक्त मन्दिर का घंटा बजाने लगा"... 
"तभी उसका नाम 'घंटेश्वरनाथ' पड़ गया होगा?".. 
"हाँ"... 
"और 'बल्लमधारी' का तखलुस्स?...वो कैसे जुड़ा इसके नाम के साथ?".. 
"मंदिर में सुबह-शाम एक सज्जन आते थे अपनी बिटिया के साथ...काफी पहुँचे हुए कवि थे और...उनकी बेटी...एक उभरती शायरा".... 
"जब कभी भी वो खाली होते थे तो मंदिर से सटे बाग में समय बिताने को आ जाया करते थे"..
"ओ.के"...
"कई बार जब खुश होते थे तो अपनी मर्ज़ी से तन्मय होकर कविता पाठ किया करते थे"..
"ओ.के"...
"बस!...उन्हीं की संगत में रहकर ये भी कुछ-कुछ तुकबन्दी करना सीख गया"...
"ओ.के"... 
"शायरी की बारीकियाँ सीखने के बहाने उसने उनकी बेटी से भी नज़दीकियाँ बढा ली और उसी के कहने पर इसने भी बाकि साहित्यकारों की तरह अपना उपनाम रखने की सोची जैसे किसी ने अपने नाम के साथ 'चोटीवाला' तखलुस्स रखा था... तो किसी ने 'चक्रधर'... किसी ने 'बेचैन'...तो किसी ने 'लुधियानवी'
"ओ.के"...  
"गाँव के बिगड़ैल लठैतों के संगत में लड़ते भिड़ते बल्लम चलाना भी सीख चुका था"... 
"ओ.के"...
"सो!..'बल्लमधारी' से बढिया भला और क्या नाम होता?"... 
"वाह!...क्या सटीक नाम चुना है उल्लू के चरखे ने?...घंटेश्वरनाथ 'बल्लमधारी' ...वाह-वाह"...  
"अरे!...ये क्या?...बातों-बातों में पता ही नहीं चला कि कब हम उसकी बुराई करते-करते अचानक उसी का गुणगान करने लगे"... 
"जी"...
"ध्यान रहे!...हमारा मकसद अपनी लेखनी के जरिए उसे नीचा दिखाना है ना कि ऊँचा उठाना".. 
"ओह!.. ये तो मैंने सोचा ही नहीं था"...
"तो फिर सोचो और सोच-सोच के उसके ख़िलाफ़ ऐसी-ऐसी बातें लिखो कि सब दंग रह जाएँ"...
"लेकिन क्या लिखूँ?...बहुत सोचने के बाद भी कुछ समझ ही नहीं आ रहा है" मैँ माथे पे हाथ रख कुछ सोचता हुआ बोला... 

"अरे!...इसमें सोचने वाली बात क्या है?...जो भाव दिल में उमड़-घुमड़ रहे हैँ...बस...सीधे-सीधे उन्हीं को अपनी लेखनी के जरिए कागज़ पे उतारते चले जाओ".. 
"मगर यार!...सब का सब झूठ लिखने से कहीं लोग ना भड़क जाएं".. 
"नहीं!...बिल्कुल झूठ नहीं...थोड़ी बहुत सच्चाई तो टपकनी ही चाहिए तुम्हारी लेखनी से"...
"वोही तो".. 
"लेकिन ध्यान रहे कि तारीफ में जो कुछ भी लिखना ...कमज़ोर शब्दों में लिखना...ढीले शब्दों में लिखना "... 
"वो भला क्यों?"...
"ओफ्फो!...इतना भी नहीं समझते?....दोस्त नहीं...वो दुश्मन है तुम्हारा"... 
"हाँ"...
"सो!...ज़्यादा तारीफ अच्छी नहीं रहेगी हमारी सेहत के लिहाज से"..
"हाँ!...ये तो है".. 
"तो क्या ये भी लिख दूँ कि कभी ये घंटेश्वरनाथ एक दम गाय के माफिक भोला और सीधा हुआ करता था?"... 
"ठीक है!...लिख देना"बीवी अनमने मन से हामी भरते हुए बोली 
"ये भी लिखना कि कैसे वो नेताओं के साथ रह-रह के उनके दाव...पैंतरे और गुर सब सीख गया है"..
"हाँ!..ये सब तो वो जान गया है कि कैसे पब्लिक को फुद्दू बना माल कमाया जाता है".. 
"इतना चालू है कि कई बार कार्यक्रम संचालन के पैसे तक नहीं लेता है"..
"पैसे नहीं लेता है?...इसलिए वो चालू हो गया?"...
"हाँ"...
"मेरे हिसाब से तो ऐसे आदमी को चालू नहीं बल्कि बेवाकूफ कहा जाता है".. 
"अरे!..वो सिर्फ बड़े-बड़े नेताओं और अफसरों की महफिलों को ही मुफ्त में सजाता है...बाकि सब की तो खाल उतार लेता है....लेकिन कई बार तो ताजुब्ब भी होता है जब वो मोटी-मोटी असामियों के फंक्शन भी मुफ्त में अटैंड कर लेता है".. 
"अरे!...कोई ना कोई मतलब ज़रूर होता होगा इस सब के पीछे...वो तुम्हारी तरह लल्लू नहीं है जो फोकट में ही अपनी ऐसी तैसी करवाता फिरेगा"...
"पता नहीं क्या मतलब निकालता होगा इस सब का?"...
"इतने सालों तक क्या घास छीलते फिरते रहे उसके साथ?"... 
"क्या मतलब?"...
"मैँ घर बैठे-बैठे सब समझ रही हूँ उसके दांव-पेंच"... 
"कैसे दाव-पेंच?".. 
"अरे!..जिन नेताओं की महफिलें वो मुफ्त में सजाया करता था... उन्हीं में से एक की सिफारिश के बल पर ही तो वो सरकारी कालेज में हिन्दी का प्रोफैसर नहीं बन बैठा था क्या?"..
"हाँ!..ये बात तो सही है... एक बड़े अफसर की रिकमैंडेशन पर बाद में उसे बिना किसी उचित योग्यता के पदोन्नत भी कर दिया गया था"... 
"मुझे तो पहले से ही इस बात का शक था"...
"लेकिन अगर इतना सब कुछ है तो फिर इन तथाकथित मोटी असामियों की चमचागिरी करने का क्या अचौतिय है?"... 
"अरे!..खोटा सिक्का कब चल जाए कुछ पता नहीं"... 
"हम्म!...
"सो!...किसी को नाराज़ ना करते हुए गधों को भी बाप बना लेता है"... 
"हम्म!...अब तो कई चेले भी तैयार हो गए उसके...उनमें से कुछ एक तो उभरते हुए कवि-लेखक भी हैँ....कुछ एक ने तो उसे गुरू धारण कर लिया है...वही लगे रहते हैँ उसकी सेवा-श्रुषा में"..
"मैं तो ये भी सुना है कि अब हिन्दी के उत्थान के नाम पे कई संस्थाओं का अध्यक्ष...तो कई कमेटियों का परमानैंट मैम्बर बन चुका है"...

"मैंने तो कुछ और ही सुना है उसके बारे में"...
"क्या?"..
"यही कि एक दो छोटी-मोटी संस्थाओं का चेयरमैन बनाया जा रहा था उसे लेकिन उसने साफ इनकार कर दिया...शायद...काम के बोझ की वजह से"...
"टट्टू!...काम के बोझ की वजह से?"...
"क्या मतलब?"...
"अरे!..ऐसी छोटी-मोटी ऑफरों को साफ ठुकरा देना ही बेहतर होता है क्योंकि वहाँ पैसा बनने की कोई गुंजाईश नहीं होती है"... 

"हाँ!...ये बात तो है...सुना है की आजकल तो लोगों की खूब जेबें ढीली कर के अपने खीसे में नोट भर रहा है"..
"वो कैसे?"... 
"कहा ना कि कई चेले तैयार कर लिए हैँ उसने अपने".. 
"तो?"... 
"कभी होली मिलन के नाम पर तो कभी इफ्तार पार्टी के नाम पर ये साहित्यकारों का सम्मेलन बुलवाता रहता है".. 
"तो क्या हुआ?...ये तो अच्छी बात है...हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए".. 
"माय फुट ...हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए"...
"अरे!...अन्दरखाते इन निजी कार्यक्रमों को गुपचुप तरीके से पलक झपकते ही सरकारी कार्यक्रम प्रोग्राम बना डालता है"...
"क्या मतलब?".. 
"गूगल या याहू ग्रुपस को मेल भेज-भेज के हम जैसे नए खिलाड़ियों को किसी मीटिंग या गोष्ठी में भाग लेने के लिए इनवाईट कर डालता है"...
"तो?"...
"जहाँ एक तरफ हम लोग इस लालच में पहुँच जाते हैँ कि चलो इसी बहाने बड़े लोगों से मिलना जुलना हो जाएगा....वहीं दूसरी तरफ ये सरकार से हमारे आने के एवज में यात्रा खर्च और हमारी फीस के फर्ज़ी बिल पेश कर पैसे ऐंठ लेता है"... 
"ओह!...
"आजकल एक नया ही शगूफा छोड़ा हुआ है पट्ठे ने"...
"क्या?"... 
"पता नहीं सरकारी अफसरों को क्या घुट्टी पिलाता है कि एक से एक टॉप का ऑडिटोरियम उसके एक इशारे पे मुफ्त में बुक हो जाता है".. 
"किसलिए?"...
"वहीं पर तो हिन्दी की सेवा के नाम पे ये 'घंटेश्वरनाथ' हर महीने किसी ना किसी को पुरस्कार दिलवा रहा है"... 
"ये तो बड़ी अच्छी बात है"..
"खाक!...अच्छी बात है...अंधा बाँटे रेवड़ियाँ...फिर फिर अपनों को देय"... 
"क्या मतलब?".. 
"हर बार अपने ही किसी खास बन्दे को कभी लैपटाप तो कभी कम्प्यूटर गिफ्ट दिलवा देता है"... 
"ओह!...दूसरों को हर महीने लैपटाप दिलवा रहा है और तुम्हें कभी लालीपाप भी दिलवाने की नहीं सोची?" 
"गम तो इसी बात का है"...
"इन प्रोग्रामों से नाम तो इसका होता है लेकिन जेब दूसरों की ढीली होती है"... 
"दूसरों की कैसे?"... 
"हर बार किसी मोटी पार्टी को चने के झाड़ पे चढा के ईनाम स्पांसर करवा डालता है...तो किसी से चाय-नाश्ते के बिल भरवा डालता है"... 
"अभी हाल ही में अपने एक बेटे को 'क ख ग' फिलम्स के नाम से एक कम्पनी खुलवा दी तो दूसरे से....
साहित्य को समर्पित एक वैबसाईट लाँच करवा दी"...
 

"इस सब से फायदा?"... 
"अरे!...वही कम्पनी उसके सभी कार्यक्रम के विडियो और स्टिल शूट करती है और उलटे सीधे बिल पेश कर सरकार को चूना लगती है"...
"ओह!...
"भुगतान तो खुद ही ने पास करना होता है सो...बिल क्लीयर होने में कोई दिक्कत भी पेश नहीं आती"...
"हम्म!...ये बात तो समझ में आ गई लेकिन वैब साईट से फायदा?"...
"अरे!...दूर की सोच रहा है वो...हमारी तरह ढीला नहीं है कि जब प्यास लगे तभी कुँआ खोदने की सोचें".. 
"क्या मतलब?"... 
"आने वाले समय में पैसा छापने की मशीन का काम करेगी वो वैब साईट"... 
"वो कैसे?".. 
"रोज़ाना दुनिया भर से लाखों लोग पहुँचेगे उसकी साईट पर".. 
"तो?"...
"यकीनन उनमें से कुछ बेवकूफ टाइप के भी होंगे जो बेकार की रागपट्टी सुनने के लिए शुल्क भी चुकाएंगे"...
"ओह!...
"कुछ मेरे-तेरे जैसे वेल्ले उस साईट पे आने वाली एड्स को क्लिक करके अपना भट्ठा बिठाएंगे और उन्ही के जरिए वो लाखों रुपया कमाएगा"..
"लेकिन इस काम में तो बरसों लग जाएंगे".. 
"तो क्या ?...वो नहीं तो उसकी आने वाली पीड़ियाँ तो ऐश करेंगी"... 
"बस यूँ समझ लो कि बढिया और उम्दा फसल के लालच में बीज डाल दिया है उसने बंजर खेत में"....  "देखते हैं कि पौधा फलदायी निकलता है कि नहीं"...
"वैसे इन कार्यक्रमों में आखिर होता क्या है?"... 
"खुद का एक दूसरे के द्वारा यशोगान"... 
"मतलब?".. 
"तू मेरी खुजा..मैं तेरी खुजाता हूँ की तर्ज पे सब लगे रहते हैँ एक दूसरे की तारीफ करने में".. 
"इसका मतलब खुद ही मियाँ मिट्ठू बन रहे होते हैँ?"...
"बिलकुल.. वहाँ जब इनको या इन जैसे कइयों को सुनता हूँ तो बहुत हँसी आती है"...
"वो किसलिए?"...
"अरे!..इस से ज़्यादा तो हमें आता है...हर बार हम नई रचना तो सुनाते हैँ कम से कम"...  
"और ये?...ये क्या सुनाते हैं?".. 
"हर कवि सम्मेलन में...हर मुशायरे में...हर राजनीतिक मंच पर पब्लिक डिमांड के नाम पर वही सुनाते हैँ जो बरसों पहले हिट हो चुका हो"...
"ट्रिंग ट्रिंग".. 
"ओह!..इस बार तो पक्का ...उसी का फोन होगा"...
"लो!...तुम खुद ही बात कर लो"... 
"न्न...नहीं"...
"इसमें घबराने की क्या बात है?...खा थोड़े ही जाएगा?...बेखौफ हो के बात करो और हाँ!...कहीं जाने के लिए बोले तो साफ मना कर देना"... 
"हम्म!... 
"हैलो"... 
"कौन?"... 
"क्या बात?...आवाज़ भी पहचाननी बन्द कर दी?"... 
"ओह!...आप...मुझे लगा कि शायद कोई और है"...
"हाँ भय्यी!..बड़े लेखक बन गए हो...अब हमारी आवाज़ भला क्यों पहचानने लगे?".. 
"नहीं जी!...ऐसी तो कोई बात नहीं है...आप तो मेरे गुरू हैँ...आपकी आवाज़ भला कैसे नहीं पहचानूँगा?".. 
"अच्छा!...तो फिर सुनो"...
"जी".. 
"कल शाम को क्या कर रहे हो?".. 
"कुछ खास नहीं"... 
"तो फिर ठीक पाँच बजे तालकटोरा स्टेडियम पहुँच जाना...तुमसे व्यंग्य पाठ कराना है"... 
"व्यंग्य पाठ?"...
"हाँ!...व्यंग्य पाठ"... 
"वो चक्रवर्ती कहाँ है?"...
"बीमार है...इसीलिए तो तुम्हें याद किया"..
"पैसे कितने मिलेंगे?"मैं मन पक्का कर के बोला... 
"मिलना-मिलाना तो कुछ खास है नहीं लेकिन हाँ...तुम्हारे फेवरेट 'हल्दीराम' हलवाई के यहाँ से चाय नाश्ते का इंतज़ाम है"...
"लेकिन मैंने तो आजकल डायटिंग शुरू की हुई है"... 
"तो?"...
"खाऊँगा-पीऊँगा नहीं तो कम से कम कुछ तो...
"अरे यार!..मैँ खुद कुछ नहीं कमा रहा...कसम से"...
"लेकिन मैँने फोकट में काम करना छोड़ दिया है"मेरा दृढ़ स्वर...
"सोच लो!...ऐसे मौके बार-बार नहीं मिलते...खुद...मंत्री जी ने खास तुम्हारी डिमांड की है"... 
"म्म..मंत्री जी ने?"...
"और नहीं तो क्या संतरी जी ने?"... 
"दरअसल!...बात ये है कि लालकिले वाले मुशायरे में तुमने उस विरोधी पार्टी के नेता की बखिया उधेड़ी थी ना"... 
"तो?"... 
"बस!...तभी से मुरीद हो गए हैँ तुम्हारे...सीधा कहने लगे कि तनेजा को ज़रूर बुलाना...घणा एण्डी लिखे सै"... 
"मंत्री जी ने खुद ऐसा कहा?"... 
"और नहीं तो क्या?" ...
"लेकिन मुझे तो दवाई लेने भी जाना था"... 
"और हाँ!...राखी सावंत का आईटम नम्बर भी रखवाया है"... 
"राखी सावंत का?"...
"हाँ भय्यी!...राखी सावंत का...खास...तुम्हारे लिए"...
"ठीक है!...तो फिर मैँ टाईम पे पहुँच जाऊँगा"...  
"और दवाई?".. 
"कोई बात नहीं...कुछ तबियत तो उसका नाम सुनते ही ठीक हो गई है" ... 
"हा हा हा ....और बाकि उसके ठुमके देख के अपने आप हो जाएगी"  
"जी!...बिलकुल"
***राजीव तनेजा***
 
नोट:यह कहानी पूर्ण रूप से काल्पनिक है।किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है

Rajiv Taneja
Delhi(India)
rajivtaneja2004@gmail.com 
http://hansteraho.blogspot.com
+919810821361
+919213766753
+919136159706

Promoted By :ram और shyamand aurएवम goodको

5 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

ब्लागर पत्नी से इतना बतियाता है वह ब्लागिंग कब करता है?

खुशदीप सहगल said...

अरे राजीव भईया,
आपको ख़बर नही हुई...राखी सावंत का अगला रियल्टी शो आने वाला है...राखी का हनीमून...जल्दी एंट्री फॉर्म भरिए...उन्होंने कंडीशन डाल रखी है...अप्लाई सून, लिमिटेड बेड्स...

जय हिंद...

ललित शर्मा said...

हे भगवान!बुढापे मे इतनी दुर आने मे गोडो की मरम्मत हो जाती है। चला था तब रणवीर था और पहुंचते पहुंचते अटल बिहारी हो गया।

ये घंटेश्वरनाथ बल्लमधारी से कोई पुरानी दुस्मनी है क्या? बेचारे के नाडे तक पहुंच गए और अब पत्नी से इतनी लम्बी बात-चीत का रिकार्ड तो आपके ही नाम होने वाला है।:)
जोर दार आज पुरी ही पढ गया।
आभार

HARI SHARMA said...

भाई कुछ ऐस चक्कर चलाओ कि गुरू गुड रह जाये और चेला शक्कर बन जाये.

अब तो चक्कर कोई ऐसा भी चलाया जाये
जिसमे गुरू घन्टालो को घनचक्कर बनाया जाये

M VERMA said...

अच्छा लगा राखी सावंत से लाल किले तक का यह सफर.

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz