नहीं परहेज़ मुझे किसी से सभी मुझको प्रिय सभी मुझको प्यारी

***राजीव तनेजा***

Nithyananda-0002 

मैँ हूँ बाल ब्रह्मचारी...

कन्या हो या हो कुंवारी

ब्याहता हो,,,

या हो परित्यक्ता नारी

नहीं परहेज़ मुझे किसी से

सभी मुझको प्रिय

सभी मुझको प्यारी

हलकी हो  या हो भारी

चौरसी हो  या हो ऑरी

मिर्ची चलेगी तेज़ करारी

मिलूँगा सबको बारी-बारी

नहीं परहेज़ मुझे किसी से

सभी मुझको प्रिय

सभी मुझको प्यारी

 1237586534-SriNithyanandaSwami

गोरी हो या हो काली

हो बस जो मस्त औ मतवाली

बनेगी वही मेरी घरवाली

खेलूँगा मैँ सबसे लम्बी पारी

आओ चलो

करें हम सेहरे की तैयारी

हाँ!..मैँ हूँ बाल ब्रह्मचारी...

कन्या हो या हो कुंवारी

सभी मुझको प्रिय

सभी मुझको प्यारी

***राजीव तनेजा***

12 comments:

ललित शर्मा said...

हा हा हा
ये भ्रमचारी इसीलिए बने है
मिल जाए कोई प्यारी
गोरी हो या कारी
जय हो भ्रमचारी

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

अब ये नौबत आ गई इन भ्रमचारी जी की।

Anil Pusadkar said...

राजीव जी खयाल रहे हम भी उसी केटेगरी के ही हैं लेकिन कुछ बोल नही पा रहे हैं।हा हा हा हा।

संजय भास्कर said...

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

कृष्ण मुरारी प्रसाद said...

अच्छी प्रस्तुति.....विचारणीय पोस्ट....

http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/04/blog-post_03.html

राज भाटिय़ा said...

राजीव जी एक बाल ब्रह्मचारी कुछेक साल पहले यहां जर्मनी मै साधू के भेष मै आया था,ेक साल के वीजे पर जिसे इस्कोन वालो ने बुलाया.... जब वीजा खत्म होने लगा तो सारी बाल ब्रह्मचारी निकल गई ओर उन्होने एक गोरी से शादी कर ली.........यानि आप की कविता यहां सत्य है जी

अजय कुमार झा said...

बाबा लोगों को आपकी ये श्रद्धांजलि को हम नमन करते हैं और ऐसे सभी बाबाओं को आत्मा की शांति के लिए दो साल का मौन धारण करते हैं । अरे अनिल भाई आप भी कहां इनके बीच फ़ंस रहे हैं ..आप तो आज भी हां कह दें तो .....देखिए सानिया का अभी कुछ फ़ायनल उतना हुआ नहीं है
अजय कुमार झा

Shobhna Choudhary said...

बहुत ही बढ़िया तरीके से लपेटा है

M VERMA said...

बाल ब्रह्मचारियों का ये हाल तो -----
बाकी सबका भला हो

Rajat Narula said...

jutta bhigo bhigo kar mara hai rajeev ji... these people deserves the same...

खुशदीप सहगल said...

ऐसे सारे बाबाओं को बोरे में बंद कर बंगाल की खाड़ी में ले जाकर डुबो देना चाहिए...

जय हिंद...

विजयप्रकाश said...

बाबा जी का बाजा बजा दिया

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz