तुकबंदियां मेरे मन की–2

कुछ लोग महान पैदा होते हैं.........कुछ पर महानता थोप दी जाती है
कुछ चाकुओं से खेलते हैं और…कुछ को जबरन सौंप..तोप दी जाती है

**********************************************************
अजीब रिश्ता है मेरा तुमसे और......…...........तन्हाई से
दिन में झिझक और..रात में प्यार तुम्हारी बेहय्याई से

**********************************************************
जिन्दगी के रंगों ने रोक लिया कदम
वर्ना चलते हम अभी और दस कदम

**********************************************************
मेरी फितरत में नहीं.......…....अपना गम बयां करना
ज़बान अगर खुद फिसल जाए तो..हमको क्या करना

**********************************************************
तेरी हर आहट पे मैं..उफ्फ उफ्फ करता हूँ
बरतन मांजते मांजते....पानी भी भरता हूँ

**********************************************************
बता मुझे ए ज़ालिम......कैसे कोई तुझसे प्यार करे
ए कुल्फी..खा के तुझे कोई खुद को क्यूँ बीमार करे

**********************************************************
जिन्दगी.......मिले ना मिले दोबारा
आ के साफ़ तो कर जाओ चौबारा

**********************************************************
अक्ल से काम ले.…......मत कर गलतियाँ…..........दुःख होता है
गलतियाँ कर कर तू सीख जाएगा..इसी बात का दुःख होता है

**********************************************************
काहे का गम..ज़िन्दगी नहीँ है कम
खोलो ढक्कन.........…......पिओ रम

**********************************************************
माना कि आज की रात ज़रा काली और.......................लंबी है
तुझे क्या फरक पड़ता इससे..नाखून तेरे लम्बे..ऊपर से गंजी है

**********************************************************
अपनों ने दी जितनी ही मुश्किलें राह उतनी ही आसान सी लगी
भय्यी….बात ये मुझे कुछ जंची नहीं………..महज़ भाषण सी लगी

**********************************************************
तेरी रूह से उसकी रूह का.........अगर होना ही था मिलन
तो चार सौ किलोमीटर दूर से..मुझे क्यों बुलाया था बेशर्म

**********************************************************
नन्हा सा मन मेरा.……………......सपना देखे खास
तीर्थ यात्रा जाए..फिर वापिस ना आए मेरी सास

**********************************************************
कोई रोने को तरसता है और किसी को रोने से फुरसत नहीं
खुशनसीब है मेरा नसीब.....खाते में इसके ऐसी ग़ुरबत नहीं

**********************************************************
जीने का मेरा अंदाज़..….......निराला है
हाथों में माईक और..होंठों पे ताला है

**********************************************************
परवाह नहीं मुझे अपने आदर्शों..........…...............अपने उसूलों की
तोड़ने से खुद को रोकूँ कैसे..बड़ी कमी है यहाँ दिल्ली में..फूलों की

**********************************************************

4 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

सुन्दर प्रस्तुति!
वरिष्ठ गणतन्त्रदिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ और नेता जी सुभाष को नमन!

डॉ टी एस दराल said...

लगता है फेसबुक ब्लॉग पर आ गया है।
दिल अपना भी दो लाइना पर आ गया है। :)

दिलबाग विर्क said...

आपकी पोस्ट की चर्चा 24- 01- 2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें ।

अरूण साथी said...

सभी जबरस्त

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz