तुकबंदियां मेरे मन की -4

रात कह रही है चुपके से…कानों में मेरे
सो जा चुपचाप…बहुत हो लिए ड्रामे तेरे

**************************************************

अन्ना रामदेव कर रहे....दिल्ली में मंथन
हाथ लगेगा कुछ या..रह जाएँगे ठन ठन

**************************************************

भंग और छंग की...तरंग में
कूदें..बिना कपड़ों के जंग में

**************************************************

इश्क अंधा....भला कहाँ सुनता किसी की
जिसकी होती जीत...बजती तूती उसी की

**************************************************

मुद्दा ए इश्क.............मैं सुलझाऊँ कैसे
बाप उसका साथ खड़ा...पास जाऊँ कैसे

**************************************************

11111

अढाई आखर.....……............इश्क के
कैसे बोलूँ मैं..बिना किसी रिस्क के

**************************************************

मैल मन का मेरे........…....कभी साफ हुआ ही नहीं
कैसे कह दूँ कि ये बात झूठी नहीं...सच में है..सही

**************************************************

जिंदगी अभी तुझे समझने की मुझे..........फ़ुर्सत कहाँ
फुर्सत निकाल भी लूँ तो समझ पाऊँ..ऐसी जुर्रत कहाँ

**************************************************

कभी दिन जैसी.....खुशनुमा थी मेरी रातें
बची अब उनमें कहाँ..वो पहले जैसी बातें

**************************************************

मुझे प्यार करो या मुझसे नफ़रत करो
प्लीज़!...…......तुम कोई तो हरकत करो

**************************************************

इश्क नहीं है मुझे तुझसे...ना ही तेरी किसी बात से
बस!...मुझे गुस्सा आ जाता है….अपनी इसी बात से

**************************************************

छटी हुई मेरी छठी इंद्री…....दिखा रही मुझे तुझमें खूबियाँ कुछ
फिर सोच क्या रही..तब अपनाएगी..जब लुट जाएगा सब कुछ

**************************************************

Anime Couples, embrace_2 - FancyWall

तेरी मदमस्त.....बाहों के दरमियाँ
आ..ढूँढें तुझमें कितनी हैं कमियाँ

**************************************************

इल्म नहीं था इतनी जल्दी खत्म..फसाने हो जायेंगे
मुझको फँसाने पिंजरा ले....आशिक नए..चले आएँगे

**************************************************

आज तलक शायद किसी से मुझे.....मोहब्बत नहीं हुई
ऐसे ही बेकार में उछल उछल कर करता रहा..हुई...हुई

**************************************************

अगर तेरे दिल के सन्नाटे को..मैं समझ पाता
तो माँ कसम..तेरे धोरे कदी ना फिर..मैं आता

**************************************************

दाढी इश्क की..मैं खुजाऊँ कैसे
माशूका रूठ गयी..मनाऊँ कैसे

**************************************************

हमारा भारत था...है और रहेगा महान
हम जो हैं लुच्चे...लफंगे और बेईमान

**************************************************

तुझसे मोहब्बत..मुझसे वफ़ा
ठीक नहीं ये...कर इसे दफा

**************************************************

व्यथा सुन मुझसे तू….उस नेक बुढिया की
भरी जवानी में जो कभी..चालू चिड़िया थी 

**************************************************

अंजाम जानते जो अगर.….....बेवफाई का
ख्याल दिल में नहीं लाते..दूजी लुगाई का

**************************************************

पीठ पीछे बीवी की.......……….........हमने किया तो क्या किया
ज्यादा से ज्यादा क्या होगा..सर पे फूटेगा कद्दू या फिर..घिया
**************************************************

3 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar said...

कोई न कोई प्रकाशक छापने को ज़रूर उत्साहित होना चाहिए

vandana gupta said...

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (26-1-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
सूचनार्थ!

MANU PRAKASH TYAGI said...

ये सब मै फेसबुक पर पढता रहता हूं अच्छा किया जो इन्हे एक जगह कर दिया

 
Copyright © 2009. हँसते रहो All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Shah Nawaz